India
8,064,289
Total confirmed cases
Updated on October 29, 2020 3:57 pm
Thursday, October 29, 2020
    Home ख़बर राशिफल 18 अक्टूबर: तुला राशि के जातक खुद से न लें कोई...

    राशिफल 18 अक्टूबर: तुला राशि के जातक खुद से न लें कोई बड़ा फैसला, कुंभ राशि वालों का भाग्यवश बन सकता है काम, जानें अन्य राशियों का हाल


    ग्रहों की स्थिति-राहु वृषभ राशि में हैं। शुक्र सिंह राशि में हैं। सूर्य, बुध और चंद्रमा तुला राशि में हैं। आज से सूर्य नीच के हो गए हैं। केतु वृश्चिक राशि में हैं। केतु वृश्चिक राशि में हैं। गुरु धनु राशि में हैं। शनि मकर राशि में हैं। मंगल मीन राशि में गोचर में चल रहे हैं। ध्‍यान देने की बात यह है मंगल और बुध वक्री हैं। सूर्य नीच के हैं जो लगभग एक महीने तक रहेंगे। सिंह राशि में शुक्र का गोचर है। बहुत जल्‍द वह भी नीच के होंगे कन्‍या राशि में जो कम्‍बीनेशन बनेगा वो शुक्र नीच के और सूर्य के नीचे, यानी फिर से एक बार ग्रहों की स्थिति खराब हुई है। आज की बात करूं तो मंगल, बुध वक्री और सूर्य नीचे के हैं। बहुत लम्‍बा तो नहीं लेकिन खराब समय शुरू हो गया है। बहुत एहतियात बरतने की जरूरत है हर क्षेत्र में। चाहे राजसत्‍ता पक्ष हो, सरकारी कामकाज हो, सरकार की स्थिति हो। आपको जो भी इम्‍यून सिस्‍टम देता है उसमें सबसे आवश्‍यक होते हैं सूर्य। सूर्य की प्रारम्भिक किरणें बहुत सारे पोषक तत्‍वों, विटामिन को लेकर आती हैं और वो जो पोषक तत्‍वों के मालिक हैं वो नीच के हो गए हैं इसलिए बहुत ज्‍यादा जरूरत है सावधानी बरतने की खासतौर से स्‍वास्‍थ्‍य के मामले में।

    राशिफल-
    मेष-
    शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से स्थिति ठीक नहीं है। पंचमेश नीच के और लग्‍नेश वक्री हैं। भाग्‍येश की स्थिति आपकी अच्‍छी है इसलिए भाग्‍यवश काम होता रहेगा। जीवनसाथी पर ध्‍यान देने की जरूरत है। अपने स्‍वास्‍थ्‍य पर ध्‍यान देने की जरूरत है। प्रेमी-प्रेमिका के बीच झगड़े हो सकते हैं। इस पर ध्‍यान दें। सूर्यदेव को जल दें। लाल वस्‍तु पास रखें।

    वृषभ-स्थिति थोड़ी सकारात्‍मक हुई है। सरकारी तंत्र में आपका दबदबा बनेगा। विरोधी परास्‍त होंगे। कुछ सीखने को मिलेगा। स्‍वास्‍थ्‍य ठीक है। प्रेम ठीक नहीं है। व्‍यापार आपका ठीक चल रहा है। पीली वस्‍तु का दान करें।

    मिथुन-स्‍वास्‍थ्‍य पर ध्‍यान दें। प्रेम की स्थिति अच्‍छी है। व्‍यापारिक दृष्टिकोण से आप ठीक चल रहे हैं। भावनाओं में बहकर निर्णय न लें। प्रेम में झगड़ा न करें। मां काली की अराधना करते रहें।

    कर्क-स्थिति बिल्‍कुल भी ठीक नहीं चल रही है। स्‍वास्‍थ्‍य प्रभावित है। सीने में विकार हो सकता है। बुद्ध‍ि से काम नहीं लेंगे। अक्रामक रहेंगे। प्रेम,व्‍यापार की स्थिति गड़बड़ है। निरंतर भगवान शिव की अराधना करें। हनुमान चालीसा का पाठ करें। ईश्‍वर साथ देंगे।

    सिंह-पराक्रमी बने रहेंगे। पराक्रम आपको आगे बढ़ाएगा। शारीरिक स्थिति कमजोर हो गई है। मानसिक स्थिति ठीक है। प्रेम की स्थिति ठीक है। बस अपने स्‍वास्‍थ्‍य पर ध्‍यान दें। सूर्यदेव को जल देते रहें और तांबे की बनी वस्‍तु पास रखें।

    कन्‍या-शारीरि‍क स्थिति ठीक नहीं कही जाएगी। थोड़ा बचाव पक्ष कमजोर हो गया है लेकिन मन मस्तिष्‍क साथ देगा। प्रेम की स्थिति भी ठीक रहेगी। व्‍यापारिक दृष्टिकोण से भी आप ठीक चल रहे हैं। बस स्‍वास्‍थ्‍य पर ध्‍यान देने की जरूरत है। सूर्यदेव को जल दें। हरी वस्‍तु पास रखें।

    तुला-बहुत बचकर पार करें। बुद्ध‍ि साथ नहीं देगी  इसलिए थोड़ा धैर्य के साथ चलिएगा। अपनों की बात सुनकर चलिएगा। खुद से कोई बड़ा निर्णय न लें। स्‍वास्‍थ्‍य ठीक-ठाक है। प्रेम अच्‍छा है।व्‍यापार भी ठीक है। सूर्यदेव को जल दें। मां काली की अराधना करें।

    वृश्चिक-चिंताकारी सृष्टि का सृजन हो रहा है। शासन सत्‍ता पक्ष से कुछ नोटिस या किसी ढंग की कोई खराब स्थिति आपको मिल सकती है। स्‍वास्‍थ्‍य भी ठीक है। प्रेम और व्‍यापार आपका ठीक रहेगा। पीली वस्‍तु पास रखें।

    धनु-आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। लेकिन कुछ भ्रामक समाचार मिल सकते हैं। स्‍वास्‍थ्‍य भी आपका ठीक चल रहा है। प्रेम बिल्‍कुल ठीक नहीं है। थोड़ा सामंजस्‍य बनाकर चलें। बजरंग बाण का पाठ करें।

    मकर-शासन सत्‍ता पक्ष का सहयोग मिलेगा। स्‍पष्‍ट रूप से किसी ढंग का कोई साथ नहीं मिलेगा। कन्‍फ्यूजन रहेगा। पिता के स्‍वास्‍थ्‍य में भी कुछ असमंजस की स्थिति रहेगी। सूर्यदेव को जल दें। ताम्रपात्र का दान करें।

    कुंभ-भाग्‍यवश कुछ अच्‍छा हो सकता है। थोड़ी सी बेहतर स्थि‍ति हुई है आपकी। स्‍वास्‍थ्‍य अच्‍छा है। प्रेम मध्‍यम है। व्‍यापार मध्‍यम से उत्‍तम की ओर है। गणेश जी की वंदना करें। ताम्रपात्र दान करें।

    मीन-बचकर पार करें। शासन सत्‍ता से बिल्‍कुल पंगा न लें। स्‍वास्‍थ्‍य ठीक है। प्रेम मध्‍यम है। व्‍यापार ठीक‍ ठाक कहा जाएगा। सूर्यदेव को जल दें। सफेद वस्‍तुओं का दान करें।

    प्रस्‍तुति-
    अजय कुमार सिंह
    गोरखपुर। 

     



    Source link

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments