India
11,079,979
Total confirmed cases
Updated on February 27, 2021 5:40 am
Saturday, February 27, 2021
    Home दुनिया ब्रिटेन ने प्रधानमंत्री मोदी को जी7 शिखर सम्मेलन के लिए आमंत्रित किया

    ब्रिटेन ने प्रधानमंत्री मोदी को जी7 शिखर सम्मेलन के लिए आमंत्रित किया


    जी7 में शामिल देश यानी, ब्रिटेन, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, अमेरिका – यूरोपीय संघ के साथ एकमात्र मंच है, जहां दुनिया के सबसे प्रभावशाली और खुले समाज और उन्नत अर्थव्यवस्थाएं आपसी सद्भाव से चर्चा के लिए एक साथ आती हैं

    ब्रिटेन ने प्रधानमंत्री मोदी को जी7 शिखर सम्मेलन के लिए आमंत्रित किया (Photo Credit: IANS)

    नई दिल्ली/लंदन:

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने इस साल जून में ब्रिटेन में होने वाले जी7 शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया है. यह शिखर सम्मेलन 11 से 13 जून तक इंग्लैंड के कॉर्नवॉल क्षेत्र में होगा. पिछले साल अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन पर चर्चा करने के लिए जी7 बैठक के लिए प्रधानमंत्री मोदी को आमंत्रित किया था. नई दिल्ली में रविवार को ब्रिटिश उच्चायोग द्वारा जारी एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि, प्रधानमंत्री जॉनसन जी7 प्रेसीडेंसी का इस्तेमाल करेंगे, ताकि कोरोनावायरस से दुनिया को बेहतर बनाने में मदद मिल सके और हरित, निष्पक्ष और अधिक समृद्ध भविष्य का निर्माण हो सके.

    जी7 में शामिल देश यानी, ब्रिटेन, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, अमेरिका – यूरोपीय संघ के साथ एकमात्र मंच है, जहां दुनिया के सबसे प्रभावशाली और खुले समाज और उन्नत अर्थव्यवस्थाएं आपसी सद्भाव से चर्चा के लिए एक साथ आती हैं. ब्रिटेन ने ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण कोरिया के प्रमुखों को भी अतिथि देशों के रूप में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया है.

    बयान में कहा गया है कि प्रधानमंत्री जॉनसन की महत्वाकांक्षा जी7 का उपयोग दुनिया के लोकतांत्रिक और तकनीकी रूप से उन्नत राष्ट्रों के बीच सहयोग को तेज करना है. उनमें से 10 नेता दुनियाभर के लोकतंत्रों में रहने वाले 60 प्रतिशत से अधिक लोगों का प्रतिनिधित्व करते हैं. जी7 को लोकतांत्रिक देशों का सबसे प्रमुख समूह बताते हुए जॉनसन ने कहा, “हमारे द्वारा सामना किए गए बड़ी चुनौतियों में यह लंबे समय से निर्णायक अंतर्राष्ट्रीय कार्रवाई के लिए उत्प्रेरक है.

    उन्होंने कहा, रूस के क्रीमिया के विनाश की हमारी वैश्विक निंदा करने के लिए विकासशील विश्व ऋण को रद्द करने से दुनिया ने हमारे साझा मूल्यों को लागू करने के लिए जी7 पर ध्यान दिया है और राजनयिक एक अधिक खुले और समृद्ध ग्रह का निर्माण कर सकते हैं. कोरोना वायरस को लेकर उन्होंने कहा, निस्संदेह सबसे विनाशकारी है और आधुनिक विश्व व्यवस्था का सबसे बड़ा परीक्षण जो हमने अनुभव किया है. इससे निपटने का एक ही तरीका है कि हम बेहतर भविष्य बनाने के लिए खुलेपन की भावना के साथ एकजुट होकर बेहतर निर्माण की चुनौती का सामना करते हैं.”

    बयान में कहा गया है कि वैश्विक फार्मेसी के रूप में भारत पहले से ही दुनिया के 50 प्रतिशत से अधिक वैक्सीन की आपूर्ति करता है, और ब्रिटेन और भारत ने पूरे महामारी में एक साथ मिलकर काम किया है.

    यह याद करते हुए कि ब्रिटेन, भारत के लिए यूएनएससी में स्थायी सदस्यता का समर्थन करने वाला पहला पी5 सदस्य और 2005 में जी7 शिखर सम्मेलन में भारत को आमंत्रित करने वाला पहला जी7 सदस्य था, ब्रिटेन सरकार ने कहा कि 2023 में वर्तमान ब्रिक्स अध्यक्ष और जी20 अध्यक्ष के रूप में, भारत दुनियाभर में बहुपक्षीय सहयोग स्थापित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा.

    संबंधित लेख



    First Published : 17 Jan 2021, 08:48:43 PM

    For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.




    Source link

    - Advertisment -

    Most Popular

    लेकसिटी में आया नया मेहमान: चेन्नई से उदयपुर पहुंची बाघिन विद्या, सज्जनगढ़ बायोलॉजिकल पार्क में रहेगी 21 दिन क्वारंटाइन

    Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें राष्ट्रीय पत्रिका ऐपउदयपुर6 मिनट पहलेकॉपी लिंकएंक्लोजर में बंद बाघिन विद्या।उदयपुर के सज्जनगढ़...

    Share Market News: शेयर मार्केट के ब्लैक फ्राइडे से न घबराएं, आने वाला है सुपर मंडे -राष्ट्रीय पत्रिका

    Share Market: इक्विटी में निवेश करने वालों के लिए बीता शुक्रवार भले ही 'ब्लैक फ्राइडे' साबित हुआ हो लेकिन बाजार बंद होने के...

    Recent Comments