India
11,079,979
Total confirmed cases
Updated on February 27, 2021 5:40 am
Saturday, February 27, 2021
    Home जयपुर तरक्की के लिए मल्टी टास्किंग बनें, नया कौशल सीखें

    तरक्की के लिए मल्टी टास्किंग बनें, नया कौशल सीखें


    नौकरीपेशा ः एक्सपर्ट अजय सेवेकरी बता रहे हैं नौकरी करने वालों को मंत्र

    देश दुनिया में महामारी के बीच बीते साल ने सभी को कुछ ना कुछ नया सिखाया है। नौकरी पेशा लोगों को तो इससे वहुत ज्यादा सीखने की जरूरत है, क्योंकि भविष्य में रोजगार के क्षेत्र में कई तरह की चुनौतियां आने वाली है। कोविड काल में दुनिया ने कई तकनीकों पर चाइना व कुछ एशियाई देशों के एकाधिकार के परिणाम से आत्मनिर्भरता की भी सीख ली है। इस समय दुनिया चाइना प्लस वन की रणनीति पर काम कर रही है। दुनिया के देश आत्मनिर्भरता की ओर जाने के प्रयास कर रहे है और चीन के विकल्पों को भी तलाश रहे हैं। इन सभी के बीच बड़ी चुनौती नई-नई टेक्नोलॉजी के विकास के साथ नौकरी पेशा लोगों को काम करने की होगी।

    कम कार्यबल में ज्यादा उत्पादन का फार्मूला

    कोरोना काल में तकनीकी के उपयोग से कम कार्यबल में ज्यादा उत्पादन का फार्मूला कारगर रहा है। अब नई तकनीक के साथ कंपनियों को कुशल कार्यबल चाहिए होगा। चाइना प्लस वन के लिए हमारे उद्योगों को उत्पाद की कीमतों पर भी ध्यान देना होगा। इसके लिए कंपनियां ऑटोमेशन और कुशल युवाओं के विकल्प को तलाशेगी। ऐसे में मौजूदा रोजगार ढ़ांचा बुरी तरह प्रभावित होगा। यह कमी 20 प्रतिशत तक की हो सकती है। ऐसे में मौजूदा रोजगार ढ़ांचा बुरी तरह प्रभावित होगा। यह कमी 20 प्रतिशत तक की हो सकती है। इसका असर मौजूदा श्रमिक व नई तकनीकों से अनभिज्ञ बिरादरी पर ज्यादा होगा। जो कुशल है, उन पर कम होगा, लेकिन इसका प्रतिशत हमारे देश में कम है।

    मल्टी टास्किंग मॉडल पर रहेगा जोर

    बीते साल जो परिस्थितियां बनीं, उसमें जिस तरह से एक व्यक्ति ने कई तरह के काम करके व्यवस्था को बरकरार रखा। उसमें कंपनियों के सामने एक मल्टी टास्किंग का नया मॉडल भी सामने है। कंपनियां अपने कर्मचारियों तकनीकी कौशल, प्रबंधन के साथ और भी विधाओं में पारंगत और प्रशिक्षित होने की अपेक्षा करेगी। इसलिए जरूरी है कि हर स्तर पर नौकरी पेशा अपने आप को प्रशिक्षित करें नए क्षेत्रों के बारे में जानकारी एकत्रित करें और काम करने का कौशल बढ़ाएं ।

    मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में जॉब बढ़ेगे

    हमारे देश में मुख्य रूप से सर्विस और उत्पादन या मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में बहुत अधिक जॉब है। जीडीपी ग्रोथ में देखें मैन्युफैक्चरिंग का हिस्सा 15 फ़ीसदी होता है। नए प्रयोगों से जॉब कम होंगे तो आने वाले समय में जो मांग बढ़ेगी उससे उत्पादन क्षेत्र और मजबूत बनने की भी संभावना है ब शर्त यह है कि हम उसके लिए प्रतिस्पर्धा करने के लिए तैयार रहे। 2025 तक सरकार का लक्ष्य जीडीपी में उत्पादन क्षेत्र की हिस्सेदारी 25 फीसदी करना है। साथ ही निर्यात लक्ष्य को भी बढ़ाना है । ऐसे में नौकरी पेशा लोगों को निराश होने की जरूरत नहीं है। क्योंकि यदि 20फीसदी जॉब कम होंगे लेकिन मांग बढऩे से उत्पादन इकाइयां बढ़ेगी और रोजगार बढ़ेगे । सामान्य सी बात है 100 इकाइयां 20फीसदी जॉब कम करेंगी तो नई 100 इकाइयां 100 फीसदी जॉब पैदा करेंगी। परंतु उत्पादन क्षेत्र के सामने सबसे बड़ी चुनौती होगी अपनी लागत को कम करना । यह चुनौती उसे कम लागत वाले देश वियतनाम थाईलैंड इंडोनेशिया फिलीपींस ताइवान आदि से मिलेगी । यहां पर कुशल मानव स संसाधन सस्ता है। हमारे नौकरी पेशा और नव युवकों को यह समझना होगा कि वह भी नई के साथ तालमेल बैठाकर अपने आपको तैयार करें। (इंटरव्यू – संदीप पारे)















    Source link

    - Advertisment -

    Most Popular

    जानें इस डॉग को क्यों मिला इतना सम्मान, पुलिस ने हार पहनाकर कतार में लगकर बजाई तालियां

    महाराष्ट्र  में नासिक सिटी पुलिस बल ने एक स्निफर डॉग- स्पाइक को बम स्कवाड में सेवा पूरी करने पर विदाई दी। ये...

    चंद्रशेखर आजाद ने मध्य प्रदेश के इस जिले में बच्चों के साथ सीखा था तीर से निशाना साधना

    Updated: | Sat, 27 Feb 2021 09:40 AM (IST) Sacrifice Day Special: मनोज भदौरिया आलीराजपुर/चंद्रशेखर आजादनगर। जो चंद्रशेखर आजाद अंग्रेजों के खिलाफ भारतीय...

    Recent Comments